इस्कॉन के मंदिर पर इस्लामी चरमपंथियों का हमला, 15 गिरफ्तार

बांग्लादेश में इस्कॉन के एक बड़े मंदिर पर हमले की खबर है। यहां के सिलहट जिले में शुक्रवार को जुमे की नमाज के बाद मंदिर पर इस्लामी चरमपंथियों ने हमला कर दिया। बड़े पैमाने पर पत्थरबाजी में मंदिर में मौजूद कुछ श्रद्धालु घायल हो गए।

घटना की सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची तो हमलावरों के साथ संघर्ष छिड़ गया। इस हमले में एक महिला सहित छह पुलिसकर्मियों के घायल होने की खबर है। घायलों को उस्मानी मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है।

बताया गया है कि मंदिर पर जब हमला किया गया, उस वक्त यहां कीर्तन और बच्चों की पेंटिंग प्रतियोगिता चल रही थी।

स्थानीय मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक जुमे की नमाज के दौरान मंदिर में कीर्तन और ढोलक बजाया जाना इस्लामी कट्टरपंथियों को नागवार गुजरा। आनन-फानन में बड़ी संख्या में मुस्लिम इकट्ठा हुए और मंदिर पर पत्थर बरसाने लगे। मंदिर का मेनगेट बंद होने की वजह से बड़ी अनहोनी को टाला जा सका।

सिलहट के पुलिस उपायुक्त फैजल महमूद ने बताया कि मामला गंभीर होने से पहले पुलिस ने भीड़ को तितर-बितर कर दिया और हालात पर काबू पा लिया गया। जब यह घटना हुई उस वक्त मंदिर का दरवाजा बंद था। यही वजह है यहां अधिक नुकसान नहीं हो सका।

हाल के दिनों में बांग्लादेश में इस्लामिक कट्टरपंथ ने न केवल मुस्लिम समाज के नीचले तबके में तेजी से जड़ जमाई है, बल्कि समाज का उच्च शिक्षित तबका भी इससे अछूता नहीं है। यह बात ढाका रेस्टोरेन्ट पर हुए हमले में साफ हो गई थी। ढाका हमले में शामिल आतंकवादी समाज के उच्च तबसे से संबंध रखते थे।

लगातार हो रही वारदातों के बावजूद बांग्लादेश की सरकार इस पर रोक लगाने की दिशा में अग्रसर नहीं दिख रही है।

पिछले एक साल में बांग्लादेश में करीब 40 हिन्दुओं, सेक्युलर ब्लॉगरों व समलैंगिक अधिकार एक्टिविस्ट्स की हत्या कर दी गई।

देखें विडियो :

 

Source : topyaps

इन ← → पर क्लिक करें

loading...
loading...
शेयर करें